BHRAMAR KA JHAROKHA DARD E DIL WELCOMES YOU

Saturday, 12 April 2014

आम' आदमी बन जाऊं


आम' आदमी बन जाऊं
----------------------
मन खौले 'शक्ति' की खातिर
'आम' आदमी बन जाऊं
भीड़ हमारे साथ चले तो
रुतबा मै भी कुछ पाऊँ
अगर 'सुरक्षा' चार लगे तो
शायद 'थप्पड़' ना खाऊं
अंकुर उभरा दबा -दबा मै
टेढ़ा -मेढ़ा ऊपर आया
ऊपर हवा स्वर्ग सी सुन्दर
मान के सीढ़ी चढ़ आया
'सिर '  ऊपर तलवार है लटकी
आज समझ मै ये पाया
कहाँ रहूँ नीचे है दल-दल
ऊपर बिजली गिरती  गाज
मूंड मुंडाए गिरते ओले
जान बचाऊं करून क्या काज ?
डाकू 'वो' लूटें सब अच्छा
निजी कमाई मै बदनाम
सौ कमरों में गुप्त खजाने
भोले भले नेता जी
'दो' से 'चार' अगर मेरा हे!
जनता को मै लूटा जी
यारों आओ अब जागें हम
सच ईमाँ को चुन लाएं
जाति धर्म को दूर रखें हम
कर 'विकास' आगे आयें
अपना भारत स्वर्ग अभी भी
फूट-फूट कर हम रोते
आओ मिल सब हाथ मिला लें
सिर धुन देखो वे रोते
प्रतिनिधि अपने  जाएँ सच्चे
दर्द व्यथा जो अपनी समझें
'फूल' खिला अपनी क्यारी में
गुल-गुलशन बगिया महके
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल 'भ्रमर ' ५
६.५५-७.२० पूर्वाह्न

जम्मू ३०.३.१४

DE AISA AASHISH MUJHE MAA AANKHON KA TARA BAN JAOON

10 comments:

  1. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे शुक्ल जी । प्रथम बार आया, देखकर अच्छा लगा । शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  3. आदरणीय कैलाश भाई जी रचना की अभिव्यक्ति सुन्दर और सटीक लगी सुन ख़ुशी हुयी
    आभार
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  4. आदरणीय शाही जी स्वागत है आप का ....प्रोत्साहन के लिए आभार ...भ्रमर का दर्द और दर्पण ( surenrashuklabhramar.blogspot.com) में भी कभी पधारिये और अपना समर्थन (follow) भी दीजिये तो आनंद और आये
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  5. आदरणीय जवाहर भाई एक आम आदमी आम आदमी की सोच पर निछावर तो होता है न ...आभार
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  6. मन खौले 'शक्ति' की खातिर
    'आम' आदमी बन जाऊं
    भीड़ हमारे साथ चले तो
    रुतबा मै भी कुछ पाऊँ
    .. बहुत खूब!
    आम से खास बनने की तमन्ना हर किसी में छुपी रहती हैं

    ReplyDelete
  7. आदरणीया कविता जी रचना आप के मन को छू सकी और आप ने आम आदमी के मन को समझा अच्छा लगा
    प्रोत्साहन हेतु आभार
    भ्रमर 5

    ReplyDelete
  8. wow very nice..happy new year2017
    www.shayariimages2017.com

    ReplyDelete

AAP KI TIPPANIYAN HAMARA PROTSAHAN KARTI HAIN -HINDI BANANE KA UPKARAN LAGA HUA HAI -BHRAMAR5